latest

सोमवार, 24 मई 2021

MSW (master of social work)

MSW
MSW


MSW (master of social work) 

समाजकार्य परिभाषा और संकल्पना:-

(Social work definition  & concept)

      नमस्कार दोस्तों, हमारे भारत वर्ष में सदियों से समाजसेवा, समाजकार्य होता आया है। एक समृद्ध समाज की यह निशानी भी है की यहां दुर्बल, असहाय, पीछडे, वंछित, पिडीत, निर्धन आदि जनोंके उत्थान हेतू लगातार कार्य होते रहे हो।भारतवर्ष में विक्रमादित्य काल हो या महावीर, गौतम बुद्ध का काल हो, समाजसेवा समाज का एक परम कर्तव्य रहा है। भारत में जैसे समाजसेवा और कार्य हजारों वर्षों से चला आ रहा था वहीं इंग्लैंड, अमेरिका में चैरिटी ओर्गनाईजेशन के तौर पर समाजकार्य को व्यावसयिक स्वरुप प्राप्त हुआ। भारत में 1936 में समाजकार्य के शिक्षण एवं प्रशिक्षण हेतु मुम्बई में सर दोराबजी टाटा ग्रेजुएट स्कूल आफ सोशल वर्क की स्थापना की गई।
  

समाजकार्य परिभाषा /Definition:- 

 "Social work is a professional service, based on scientific knowledge and skill in human relations, which assist individuals, alone or in groups, to obtain social and personal satisfaction and independence" 
- W. Friedlander (1995)   

 "Social work is the art of bringing various resources to bear on the individual, group and community need by the application method of helping people to help themselves" 
H.H. Stroup (1960)

समाजशास्त्रज्ञ विट्मर के अनुसार:-

 समाज कार्य का प्रमुख कार्य व्यक्तियों की उन समस्याओं को दूर करने में सहायता करना है, जो वे एक संगठित समूह की सेवाओं का प्रयोग करने में या एक संगठित समूह के सदस्य के रूप में अपने कार्य सम्पादन में अनुभव करते हैं।
 

समाजशास्त्रज्ञ पिंक के अनुसार:-

 समाजकार्य सेवाओं का एक ऐसा विधान है, जो व्यक्तियों को अकेले या समूहों में ऐसी वर्तमान या भविष्य में आनेवाली सामाजिक एवं मनोवैज्ञानिक अड़चनों से निपटने में सहायता देता है, जो उन्हें समाज में पूरे या प्रभावशाली रूप से भाग लेने से रोकती है।

सोशलवर्क संकल्पना विश्लेषण :-

        सोशलवर्क या समाजकार्य यह वह क्षेत्र है, जहां व्यक्ति, समूह या समुदाय के लिए कार्य किया जाता है। समाजकार्य और समाजसेवा दोनों संज्ञा में अंतर है। समाजसेवा में वोलिंटीयर (स्वयंसेवक ) के तौर पर कार्य किया जाता है, वहीं समाजकार्य MSW प्रशिक्षिण प्राप्त कार्यकर्ता एक व्यावसायिक प्रशिक्षित समाजकार्य की भूमिका निभाता है। समाजसेवा एच्छिक होती है, वहीं समाजकार्य MSW कार्यकर्ता सुनियोजित कार्य निभाता है। समाजसेवा में लाभार्थी को  एच्छिक सेवा दी जाती है वहीं, MSW समाज कार्यकर्ता MSW Tecniqs की सहायता से लाभार्थी की समस्याओं को चयन कर, समस्यानुरूप उसे समाधान दिलाने में guide करता है।
        MSW कार्यकर्ता समाजकार्य के सायंटिफीक तंत्र, सिद्धांत, टूल, मोडल ईत्यादी के सहायता से समाजकार्य करता है। समाजकार्य के अन्तर्गत छः प्रणालियों के माध्यम से लोगों की सहायता की जाती है। इसमें (1) सामाजिक-वैयक्तिक कार्य, (2)समूह समाज कार्य, (3)सामुदायिक संगठन, (4)समाज कल्याण प्रशासन, (5) समाज शोध, (6) सामाजिक क्रिया इन का समावेश होता है। 
        समाज कार्य मुख्यतः एक व्यवस्थित और क्रमबध्द ज्ञानपर आधारित है। ईसमे विशेष प्रणालियां, प्रविधियां तथा तंत्र (technic) होती है। सरकार द्वारा भी समाजकार्य एक व्यवसाय के रूप में अनुमोदित है। जिसकी अपनी एक आचार संहिता है। उसका पालन करना सभी कार्यकर्ताओं के लिए आवश्यक माना जाता है। समाजकार्य के संगठन मुख्य रूप से गैर-सरकारी संगठन के रूप में संचालित होते हैं। एसे संगठन का स्वरूप बड़ा और वित्तिय व्यापक स्त्रोत होता है । सरकार भी जिसे जनहित में वित्तीय सहायता प्रदान करती है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot