latest

सोमवार, 8 मार्च 2021

Motivational Poem in hindi

Motivational Poem in hindi

Loving parents is the first love "

कैसे चूकाएँगे माता-पिता का ऋण.....???
    Motivational

       
         पहला प्यार हमें अपने माता-पिता से होता है ! क्योंकि हमें दुनिया मे लानेवाले हमारे माता-पिता ही होते है! बच्चोंके रूपमे आई नई खुशियोंको वो बड़े नाजो से पालते है बच्चों की एक मुस्कान के लिए वो कई दर्द उठाने को भी तैयार रहते है! पर अक्सर बच्चे उनके प्यार और care को समझ नहीं पाते और उन्हें रुला देते है ! हमारे रोने की एक आवाज पर हमारे माता- पिता भाग आते थे पर शायद हमें उन बातोंका एहसास न होने के कारण हम उन के प्रति अपनी duty भूल जाते है ! मुझे लगता है की हमारे Parents   ने हमें पाल पोस के बडा  करते समय अगर वीडियो Recordings की होती तो आज के बच्चे ये सवाल न पूछ सकते की आपने हमारे लिए किया ही क्या है ....?????

कैसे चूकाएँगे माता-पिता का ऋण.....???

नींद मे भी  जो  हमारे लिए,
जागे-जागे रहेते थे....!

अपने सपने छोड़ हमारे,
सपने संजोते रहेते थे....!

कभी आधी रोटी खाके भी,
हमें पूरी रोटी खिलाते थे ...!

पता ना चल पाए ईसलिए ,
पेटपर अपने हाथ फेर लेते थे....!

हमारी  एक हँसी के खातिर,
कितने आँसू वो छिपाते थे....!

आज उनके आँसू हम भी,
कतई देख नही पाते है....!

परमात्मा से करते है प्रार्थना,
उनके आँसू हम पौंछ  ना सके,

तो हमें जरूर रूला देना.....!!
पर हमारे माता-पिता की आखों मे,

आँसूकी "एक बूंद" भी ना देना....!
आँसूकी "एक बूंद" भी ना देना....!

- धन्यवाद                    

Motivational Poem in hindi
Dosti

  
 दोस्ती के बारे मे ये कविता आपको सब कुछ बता  देगी, और आपको आपके बेस्ट फ्रेंड की याद दिला देगी... ! कही किसी वजह आप अपने दोस्त से दूर हो तो भी कोई बात नहीं दोस्तों..... https://www.meenajain.com/2021/03/Motivational-Poem-in-hindi-.html  ये लिंक शेयर कर उनसे अपनी दोस्ती की गहराई बाट देना... । Thanks  

Dosti-दोस्ती

हर मौसम मे खिल-खिलाती है दोस्ती
गिला हो या शिकवा मान जाती है दोस्ती.!

दिल के हर कोने  को जानती  है दोस्ती... ,
आँसू की बूँदो मे भिगोती है दोस्ती.....! 

मस्ती की ये मुस्कान लाती है दोस्ती ... ,
तनहाई मे महेफिल सजाती है दोस्ती ....! 

अनकही बात ये समझ जाती है दोस्ती ... ,
हर मुसीबत मे साथ निभाती है दोस्ती..! 

सूरज की उज्वल  किरणें होती है दोस्ती... ,
चांद की शुभ्र शीतलता देती है दोस्ती....!

प्यार  की परीभाषा  समझाती है दोस्ती ... ,
जीवनकी अनमोल संपत्ति होती है दोस्ती..!

हर किसीको मिले ऐसी लाजवाब दोस्ती .. ,
"रब नजर आए वहाँ जहाँ  होती है दोस्ती..! 

... Thank you friends

Motivational Poem in hindi


      अक्सर हम खुशी को इधर-उधर ढूंढते रहते है , पर हकीकत मे  हमारे तकदीर की खुशी हमारे पास आती ही है ! मतलब सही समय आने पर हमारे हिस्से की हर वो खुशी हमे मिल जाती है, जिसे हम अक्सर खोजते रहते है ! इसलिए जीवन मे  patiens को अपनाने की जरूरत रहती है !

“खुशी को ढूंढने की जरूरत नहीं है.. !!”
 Smile-please


जब देखा, बिन मां बाप के बच्चों को सड़क पर घूमते..,
तब लगा अच्छी है मेरी खुशकिस्मत जिंदगी...!

 जब देखा, भूख से तड़पती दो दिन के बच्चे की मां को..,
तब लगा अच्छी है मेरी खुशकिस्मत जिंदगी...!

 जब देखा पत्नी के ग़म में डूबे पती को तडपते..,
तब लगा अच्छी है मेरी खुशकिस्मत जिंदगी...!

 जब देखा विधवा का ठप्पा लगे हुए यौवनवती सुंदरी को
तब लगा अच्छी है मेरी खुशकिस्मत जिंदगी...!

 साँस के ताने , पती का घूत्कार  और मार देखा..,
तब लगा अच्छी है मेरी खुशकिस्मत जिंदगी...!

 पेट की आग बूझाने यौवन को निलाम होते देखा..,
तब लगा अच्छी है मेरी खुशकिस्मत जिंदगी...!

सूनी गोद देखी, किलकारी यों के लिए तड़प देखी..,
तब लगा अच्छी है मेरी खुशकिस्मत जिंदगी...!

जब देखा अफसर की औकाद को मेज पर पौंछा लगाते
तब लगा अच्छी है मेरी खुशकिस्मत जिंदगी...!

 "जो हे बस वहीं खुशी है दोस्तों,
खुशी को ढूंढने की जरूरत नहीं है ,

आपकी खुशी आपके पास जरूर आएगी ...!!!"
So live always happy in any Situation..!!

 - Thanks, Friends

Motivational Poem in hindi


Equality must...!!

 
समानता मात्र कहने से हासिल नहीं होती, उसे अपनाना होता है ! लड़कियों को स्वयं को कम आकने की सोच बदल कर उसे भी इंसान के  नजरिए से देखना चाहिए ! क्योंकि लड़कियाँ भी हा ...!  इंसान ही होती है... !!!                                       

Equality must......!!

ज़माने ने अब कहावतें बदल डाली,
अन्याय-असमानता की हर दिवार तोड़ डाली.!

चूल्हा जलाना और अन्याय सहना बस,
यही काम अब नहीं रहा माता-बहेनों का.!

अब ये ना सहेगी और कहेगी भी, 
अन्याय को हरगिज ना सहेगी...!

ग़लत हुआ तो लड़ेगी भी,
असमानताओं को ये तोड़ेगी ..!

लक्ष्मण की राह अब ये नहीं देखेगी....,
स्वयं ही खडग उठा लेगी !!

लक्ष्मन रेखा अपनी कू-प्रवृतीयों पर ...,
रावण को ही अब खींचनी होगी !!

"या देवी सर्वभूतेषु शक्ति-रूपेण संस्थिता।
 नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥"

Happy women's Day...🙏

सभी माता-बहनों को और उनके भाईयों को 
(जो समानता का सम्मान करते हैं😀) समर्पित .....🙏🙏🙏

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Your Ad Spot